भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Psychology (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें
Please click here to view the introductory pages of the dictionary

Personal construct

वैयक्‍तिक निर्मिति
Description: दूसरे व्यक्‍तियों की विशेषताओं को बताने का संवेदन-विशिष्‍ट एवं व्यक्‍तिगत तरीका।

Personal costs of not helping

मदद न करने की व्यक्‍तिगत लागत
Description: पिलियावान के अनुसार पीड़ित को विपत्‍ति में मदद न करने से दर्शक के लिए महँगा पड़ सकता है, उदाहरण के लिए दोषी होने का अनुभव।

Personal data sheet

वैयक्‍तिक विवरण पत्रक
Description: किसी व्यक्‍ति के बारे में कोई भी जानकारी पाने के लिए तैयार की गई प्रश्‍नावली।

Personal identiy

व्यक्‍तिगत अस्मिता
Description: स्व को विशिष्‍ट व्यक्‍तिगत गुणों या विशिष्‍ट अंतर्वैयक्‍तिक संबंधों के रूप में परिभाषित करना।

Personal idiom

व्यक्‍ति वैशिष्ट्य
Description: समाज में देखी जा सकने वाली किसी व्यक्‍ति के व्यवहार की ऐसी विशेषताएं जिनसे वह और लोगों से भिन्‍न होता है किंतु इन विशेषताओं का अनुकूलन की दृष्‍टि से कोई महत्व नहीं होता।

Personal space

वैयक्‍तिक स्थान
Description: व्यक्‍तियों के शरीर के आस-पास का भौतिक स्थान जिसे वे अपना हिस्सा समझते हैं।

Personalism

व्‍यक्‍तिवाद
Description: वह व्यवहार जो प्रत्यक्ष रूप से ऐसा प्रतीत होता है कि दूसरों की अपेक्षा स्वयं को फायदा या नुकसान के उद्देश्य से किया गया है।

Personality disorder

व्यक्‍तित्व विकार
Description: व्यवहार संबंधी ऐसे दोष जो मुख्यतया व्यक्‍ति के अभिप्रेरणात्क व्‍यवहार और सामाजिक कुसमायोजन में प्रकट होते हैं।

Personality disorganization

व्यक्‍तित्व विघटन
Description: अभिप्रेरकों और अन्य गत्यात्मक प्रवृत्‍तियों का परस्पर विच्छिन्न होकर असंतुलन और असमंजन की ऐसी दशा उत्पन्न करना कि व्यक्‍ति की सारी प्रवृत्‍तियाँ परस्पर विरोधी दिशा में क्रियाशील होने लगें और आंतरिक संघर्ष की विषम स्थिति आ जाए।

Personality inventory

व्यक्‍तित्व सूची
Description: अभिकथनों की ऐसी सूची जिसमें व्यक्‍तिगत विशेषताओं से संबंधित कुछ अभिकथन होते हैं और व्‍यक्‍ति को यह मानना पड़ता है कि उनमें से कौन से उस पर लागू होते हैं और कौन से नही; या ऐसे प्रश्‍न होते हैं जिनका जबाव ‘’हां’’ ‘’ना’’ या ‘’अनिश्‍चित’ कहकर देना पड़ता है।

Personality style

व्यक्‍तित्व शैली
Description: व्‍यक्‍तित्‍व आधारित सामान्यीकृत प्रवृत्‍ति या प्रवणता।

Personality type

व्यक्‍तित्व प्रकार
Description: व्यक्‍ति के व्यवहार की विशिष्‍ट प्रवृत्‍तियों और उसके व्यवहार के सामान्य तौर तरीकों के आधार पर उसका उपयुक्‍त वर्गीकरण। यह एक प्रकार का औसत होता है क्योंकि किसी समूह के अधिकांश सदस्यों की सर्वनिष्‍ठ विशेषताओं के आधार पर ही किसी व्यक्‍ति को किसी वर्ग या समूह का प्ररूप माना जाता है।

Personology

व्यक्‍तित्व अध्ययन
Description: अ. व्यक्‍तित्व को मनोविज्ञान की एक अलग शाखा मानकर उसका अध्ययन। ब. सारी मनोवैज्ञानिक घटनाओं का व्यक्‍तित्व के चरों के संदर्भ में अध्ययन या व्यक्‍ति से संबंधित घटनाओं का व्यवस्थित अध्ययन।

Persuasive arguments theory

अनुनयात्मक तर्क सिद्धांत
Description: यह विचार कि समूह में लोग उस नवीन सूचना से अनुनयित किए जाते हैं जो उनके वास्तविक स्थिति को समर्थन देती है, एवं इस प्रकार वे अपने प्रारंभिक स्थिति का चरम सीमा तक अनुमोदन करते हैं।

Persuasive communication

अनुनयात्मक संप्रेषण
Description: वह संदेश जिसका उद्देश्य श्रोता के व्यवहार एवं अभिवृत्‍ति में परिवर्तन लाना होता है।

Perversity

विपर्यस्तता
Description: समाज द्वारा गर्हित और निंदित आचरण, विशेषकर काम संबंधों के क्षेत्र में।

Petit mal

मृदु अपस्मार
Description: अपस्मार का हल्का दौरा या प्रारंभिक रूप जिसमें व्यक्‍ति कभी कभी क्षण भर के लिए निश्‍चेष्‍ट और अचेतन हो जाता है और अनजाने ही कुछ स्वायत्‍त क्रियाएं करने लगता है।

Phaeoscope

आकारपरिवर्तनदर्शी
Description: चाक्षुष समायोजन के समय लेंस के आगे और पीछे की सतह से परावर्तित प्रतिमाओं के आकार में होने वाले परिवर्तनों को दिखाने वाला उपकरण।

Phallic primacy

लिंगीय प्राधान्य
Description: पूर्वजननांगिक अवधि की एक अवस्था जिसमें लड़के की रत्यात्मक अभिरुचि शिश्‍न और लडक़ी की अभिरुचि शिश्‍न से मिलती जुलती किसी चीज पर केंद्रित होती है।

Phallic stage

लिंग अवस्था
Description: मनोलैंगिक विकास क्रम में शैशवीय कामुकता की विकासवस्था का तीन से सात साल का समय जिसमें बालक बालिकाएं अपनी अपनी जननेंद्रियों में गहरी दिलचस्पी दिखाने लगते हैं और उनमें मातृ और पितृमनोंग्रथियाँ बनने लगती है।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App