भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

सेल्ही

योगियों की माला।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: स्त्री.
Etemology: (हिं. सेला)

सेल्ही

गले में लपेटने की चादर।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: स्त्री.
Etemology: (हिं. सेला)

सेल्ही

छोटा भाला या बरछी।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: स्त्री.
Etemology: (हिं. सेली)

सेवँई

मैदे के सूत के लच्छे जो घी में तलकर और दूध में पकाकर खाये जाते हैं।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: स्त्री.
Etemology: (सं. सेविका)

सेवंत

एक राग।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: पुं.
Etemology: (सं. सामंत)

सेवँर

एक वृक्ष जिसके फलों से एक प्रकार की रुई निकलती है।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: पुं.
Etemology: (हिं. सेमल)

सेव

बेसन का बना हुआ एक पकवान जो नमकीन भी बनाया जा सकता है और पागकर मीठा भी।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: पुं.
Etemology: (सं. सेविका)
Description with Example: उ.-(क) फेनी सेव अँदरसे प्यारे-३९६। (ख) सेव सुहारी घेवर घी के -२३२१।

सेव

टहल, परिचर्या।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: स्त्री.
Etemology: (सं. सेवा)
Description with Example: उ.-राजा सेव भली बिधि करै। दंपति-आयसु सब अनुसरै-१-२८४।

सेव

पूजा, उपासना, आराधना।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: स्त्री.
Etemology: (सं. सेवा)
Description with Example: उ.-(क) तातैं बिबस भयौं करुनामय छाँड़ि तिहारी सेव-१-४९। (ख) करै जो सेव तुम्हारी सो सेइयो बिष्नु सिव ब्रह्म मम रूप सारे-१० उ.-३५।

सेव

उपासना, आराधना करो।
Grametical Category: क्रि.स.
Etemology: (हिं. सेवना)
Description with Example: उ.-सेव चरन-सरोज-सीतल तजि बिषय रस पान-१-३०७।

सेव

व्यर्थ ही निकट या पास (आशा लगाये) बैठा रहता है।
Grametical Category: क्रि.स.
Etemology: (हिं. सेवना)
Description with Example: उ.-ज्यौं सुक सेमर सेव आस लागि निसि-बासर हठि चित्त लगायौ-१-३२६।

सेव

सेव’ फल।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: पुं.
Etemology: (हिं. सेव)

सेवक

टहल या परिचर्या करनेवाला, नौकर-चाकर, भृत्य।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: पुं.
Etemology: (सं.)
Description with Example: उ.-(क) इंदु समान हैं जाके सेवक, नर बपुरे की कहा गनी-१-३९। (ख) अनाचार सेवक सौं मिलि कै करत चबाइनि काम-१-१४१। (ग) सेवक राज, नाथ बन पठए, यह कब लिखी बिघाता-९-४९। (घ) सेवक कौ सेवापन एतौ, अज्ञाकारी होइ-९-९९। (ङ) सुर-नर-असुर-कीट-पसु-पच्छी सब सेवक प्रभु तेरे-५७०।

सेवक

भक्‍त, उपासक, आराधक।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: पुं.
Etemology: (सं.)
Description with Example: उ.-जिहिं जिहिं बिधि सेवक सुख पावै, तिहिं बिधि राखत मन कौं-१-९। (ख) तीनि लोक के ताप निवारन सूर स्याम सेवक सुखकारी-१-३०। (ग) सूर सुकृत सेवक सो साँचौ स्यामहिं सुमिरैगौ-१-७५।

सेवक

व्यवहार या सेवन करनेवाला।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: पुं.
Etemology: (सं.)

सेवक

किसी स्थान में नियम पूर्वक अथवा उहेश्य-विशेष से वास करनेवाला।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: पुं.
Etemology: (सं.)

सेवकाइ, सेवकाई

सेवक का काम, टहल, सेवा।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: स्त्री.
Etemology: (सं. सेवक + हिं. आई)
Description with Example: उ.- (क) खरिक दुहावन जाति हों, तुम्हरी सेवकाई-७१३। (ख) चूक परी हरि की सेवकाई-२६९५।

सेवकनी, सेवकिन, सेवकिनि, सेवकिनी, सेविका, सेविकिन

सेवा करनेवाली, टहलिनो, परिचारिका।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: स्त्री.
Etemology: (सं. सेवक)
Description with Example: उ.- रमा सेवकिनी देऊँ करि, कर जोरैं दिन याम-१६२५।

सेवकनी, सेवकिन, सेवकिनि, सेवकिनी, सेविका, सेविकिन

पूजा उपासना करनेवाली।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: स्त्री.
Etemology: (सं. सेवक)

सेवकनी, सेवकिन, सेवकिनि, सेवकिनी, सेविका, सेविकिन

सेवन करनेवाली।
Grametical Category: संज्ञा
Gender: स्त्री.
Etemology: (सं. सेवक)

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App