भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Hindi Paribhashik Laghu Kosh (CHD)

Central Hindi Directorate (CHD)

अकुलाना

(अ.क्रि. ) (तद्<आकुलन)

किसी अभाव की पूर्ति न हो पाने के कारण मन मे होने वाली बेचैनी।

अकुलाहट

(स्त्री.) (तद्+आहट हि. प्रत्यय)

पर्या. आकुलता, व्याकुलता, बेचैनी। दे. अकुलाना।

अकुलीन

(वि.) (तत्.)

जो किसी कुलीन अर्थात उच्च कुल या वंश में पैदा न हुआ हो; नीच कुल में उत्पन्न।

अकुशल

(वि.) (तत्.)

1. जो कुशल न हो, जो सौंपे गए कार्य को अपेक्षित दक्षता से न करे। 2. जिसे अपने व्यवसाय का तकनीक प्रशिक्षण न मिला हो। जैसे : यह संस्था अकुशल व्यक्‍तियों को नहीं रखती है। पर्या. अनाड़ी जैसे : अकुशल कारीगर या मज़दूर।

अकुशलता

(स्त्री.) (तत्.)

कुशल या दक्ष न होने का भाव; अनाड़ीपन। दे. अकुशल।

अकृत्रिम

(वि.) (तत्.)

जो बनावटी न हो; असली, स्वाभाविक। जैसे : कृत्रिम जीवन-यापन।

अकेला

(वि.) (तद्.)

1. जो बिना किसी संगी-साथी के हो जिसके साथ कोई न हो, एकाकी। 2. जो अपनी तरह का एक ही हो, जिसके जैसा कोई और न हो, बेजोड़, अद्वितीय। अद्वितीय, बेजोड़।

अकेले

(क्रि.वि.) (तद्.<एकल)

बिना किसी का साथ लिए। टि. अधिक बल देने के लिए ‘अकेले-अकेले’ प्रयोग किया जाता है।

अकेले-दुकेले

(क्रि.वि.)

(दे. अकेले) अकेले या किसी अन्य को साथ लेकर।

अक्खड़

(वि.) (हि.) तद्.-आस्कंदक

1. जो दूसरे की बात न मानते हुए अपनी ही बात पर अड़ा रहे। 2. बिना धीरज रखे लड़ पड़ने वाला उजड्ड, उद्धृत, झगड़ालू,। 3. मूर्ख, जड़, बिना विचारे दो टूक कह देने वाला। अशिष्‍ट, उग्र, निडर आदि।

अक्खड़पन

(पु.) (तद्.)

स्वभाव से अक्खड़ होने का भाव। दे. अक्खड़।

अक्लमंद

(वि.) (अ.+फा.)

चतुर, होशियार, बुद्धिमान, समझदार।

अक्ल

(स्त्री.) (अर.)

बुद्धि‍, समझ, सूझ-बूझ मुहा. अक्ल का अंधा-सामान्य ज्ञान या समझदारी से रहित (व्यक्‍ति), मूर्ख। अक्ल का दुश्मन-बहुत बड़ा मूर्ख, बेवकूफ। अक्ल का मारा-जिसमें समझदारी का पूरी तरह से अभाव हो। अक्ल के पीछे लट्ठ लिए फिरना हर समय बेवकूफी का काम करना। अक्ल का घास चरने जाना-समझदारी की बहुत अधिक कमी। अक्ल पर पत्थर/परदा पड़ना-सामान्य समझदारी होने पर भी आवश्यकता पड़ने पर उसका उपयोग न करना। अक्ल के घोड़े दौड़ाना-अनेक प्रकार की बौद्धिक कल्पनाएँ करते रहना। अक्ल ठिकाने लगा देना होश में ला देना (मारपीट या अन्य तरीके से) अक्ल दौड़ना’/भिड़ना/लड़ाना-सोच-विचार करना, गौर करना। अक्ल पर पर्दा पड़ना- कुछ भी समझ न पाना, अक्ल मारी जाना। अक्ल चकराना-हैरान अथवा चकित होना। अक्ल गुम होना-कुछ समझ में न आना। अक्ल लड़ाना-कुछ उपाय सोचना। अक्ल के तोते उड़ जाना-होश ठिकाने न रहना। अक्ल से बाहर होना दूर होना-कुछ समझ न सकना।

अक्लांत

(वि.) (तत्.)

जो थका न हो, जो परेशानी/थकावट/क्लांति महसूस न करे, क्लांति-रहित।

अक्ष

(पुं.) (तत्.)

1. जुआ चौसर आदि खेलने का पासा। 2. इंजी. पहिये का धुरा (लौहदंड) जिसके सहारे पहिया घूमता है exil 3. भूगो. वे कल्पित रेखाएँ जो भूगोलक पर भूमध्य रेखा से समान अंतर पर पड़ी हुई दिखाई जाती है और स्थानगत दूरी मापने के लिए उपयोग में आता है। globe

अक्षत

(वि.) (तत्)

शा.अर्थ जो क्षत या क्षतिग्रस्त न हुआ हो; जिसके टुकड़े न हुए हों, जिसे खोट न लगी हो; समूचा पूर्ण, अखंडित, जिसे चोट न लगी हो; जो घायल न हुआ हो। पुं. बिना टूटा या कुटा हुआ चावल, जौ, धान्य। विलो.- क्षत।

अक्षम

(वि.) (तत्.)

1. कार्य करने की क्षमता न रखने वाला। 2. जो सौंपा गया कार्य करने के योग्य न माना जाए। जिसमें क्षमता अर्थात शक्‍ति की कमी हो, शक्‍तिहीन, क्षमताहीन, असमर्थ, अयोग्य। विलो. क्षम (सक्षम नहीं) disabled, iucompetent

अक्षमता

(स्त्री.) (तत्.)

अक्षम होने की अवस्था, असमर्थता। दे. अक्षम।

अक्षम्य

(वि.) (तत्.)

जिसे क्षमा न किया जा सके। जैसे : अक्षम्य अपराध। विलो. क्षम्य। क्षम्य- वि. (तत्.) जिसे क्षमा किया जा सके। जैसे-तुम्हारे अब तक के अपराध क्षमा है।

अक्षम्य

(वि.) (तत्.)

क्षमा न करने योग्य, जिसे क्षमा न किया जा सके। जैसे : अक्षम्य अपराध।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App